सुरबीर में लोगो ने बेरोजगारी के खिलाफ थाली बजाकर किए प्रदर्शन…

86

महाराजगंज बिहार: ” बिहार में आई बाहार फिर से नीतीश सरकार ” के सलोगन के साथ फिर से सूबे की सरकार ने चुनाव में आई है।

वही नीतीश सरकार के विकास की गाथा हर जगह जगह प्रसार किया जा रहा है की नीतीश के नेतृत्व में बिहार में विकास की गंगा वह रह हैं। जो नीतीश ने किया आज तक किसी भी सरकार ने नहीं किया।

क्या ये दावा सही है? सबसे बडा प्रश्न चिन्ह खडा हो रहा है, क्योकि यहाँ बेरोजगारों की संख्या दिन प्रति दिन बढती ही जा रही हैं। इसी बढती बेरोजगरी के चलते युवाओ में आक्रोश देखने को मिला बिहार के महाराजगंज में, जहां बेरोजगार युवा सरकार के खिलाफ एक जुट होकर विरोध में थाली पीट कर विरोध दर्ज करा रहे थे।

उनकी एक ही माँग थी की सरकार युवाओं को रोजगार दे। साथ ही महाराजगंज के सूरबीर के उत्कर्मित मध्य विद्यालय के प्रांगण में युवाओं ने बेरोजगारी के खिलाफ सरकार का विरोध किया। युवाओं का कहना है कि सरकार लापरवाह है।

ये सरकार सिर्फ बडे बडे सपने दिखाने का काम करती है, कहती है कुछ पर जमीनी हकीकत कुछ और है। नीतीश सरकार युवाओं पर ध्यान नहीं दे रही हैं।

साथ में एसएससी, रेलवे आदि का 500 रुपए लेकर आवेदन किए लेकिन अभी तक उसका कुछ नहीं हुआ। साथ में युवाओं ने रेलवे निजीकरण के खिलाफ भी प्रदर्शन किए।

युवाओं का कहना है कि केंद्र सरकार और राज्य सरकार हमलोगो के साथ सौतेलापन जैसे व्यायाहार कर रहीं हैं। ये सरकार सिर्फ युवाओं को सपने दिखाकर सिर्फ वोट की राजनीति करती हैं।

सूबे में नीतीश की सरकार को 15 साल से ज्यादा हो रहे है परन्तु आज तक बिहार में एक भी कल कारखाने नहीं चालू हो सके। अगर चालू होते तो कितने युवाओं को रोजगार मिलता। परन्तु नीतीश सरकार को युवाओं की सिर्फ वोट चाहिये न की उनके भविश्य की चिंता है। अगर युवाओं की भविश्य की चिंता होती तो युवाओं के रोजगार उपलब्ध कराती।

Report by: RAJESH KUMAR