चचरी पुल पर जान जोखिम मे डालकर आ जा रहे है ग्रामीण

84

सारण,बिहार: मशरक प्रखंड क्षेत्र मे दो दो बार आयी विनाशकारी बाढ से आम जीवन अस्त वयस्त हो गया था। वही अभी भी कुछ इलाको मे पानी से टूटी सड़क की मरम्मत नही होने से ग्रामीणों को आने जाने मे बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

वही बहरौली पंचायत मे बाढ से आधा दर्जन सड़क क्षतिग्रस्त हो गयी। अभी भी पंचायत के देवरिया नहर से कवलपुरा, बहादूरपुर, राजापटी होकर गोपालगंज जिले की सीमा को जोड़ती है। यह ग्रामीण सड़क SH 73 को SH 90 से जोड़ती है। जिससे दर्जनों गांवो के लोगो का आना जाना लगा रहता है। इसी सड़क से पहली बार आयी बाढ से डुबे गांवो के लोग चचरी पुल से आ रहे थे। जिसका मरम्मत बहरौली पंचायत के मूखिया द्बारा किया गया।

वही दूसरी बार आयी बाढ से सड़क फिर से बहकर क्षतिग्रस्त हो गया जिस पर ग्रामीणों ने फिर से बांस की चचरी पुल बना आ जा रहे है। वही इस पर को्ई ध्यान नही दे रहे है। इसके साथ इसी पंचायत के देवरिया बाजार से गांव मे जाने वाली सड़क पर बांस के उपर प्लान बोर्ड रखकर लोग आ जा रहे है पर कोई सक्षम अधिकारी ध्यान नही दे रहा है।

मामले मे गांव वाले बताते है कि टुटी सड़क पर लोग जान ज़ोखिम मे डालकर आ जा रहे है। इस पर कोई ध्यान नही दे रहा है। पंचायत के मुखिया से भी शिकायत करने पर कोई मदद नही मिल रही है। मामले मे जब मुखिया बहरौली अजीत सिह से मामले मे जानकारी ली गयी तो उन्होंने बताया कि दो महीने के अंतराल मे दो बार बाढ आयी जिससे पंचायत के आधा दर्जन सड़क बाढ के पानी मे बह ग्ए जिस पर बांस की चचरी पुल बनाकर लोगो को आने जाने की सुविधा उपलब्ध करायी गई थी। वही पानी खत्म होते ही सड़को की मरम्मत ईट और राबिस से भरकर कर दी गई।

वही देवरिया नहर से कवलपुरा जाने वाली और देवरिया बाजार के पास पर पानी अभी भी बह रहा है। जिस पर दो चार दिनो मे साइफन लगाकर मरम्मत कर दिया जाएगा।

संवाददाता: राजेन्द्र कुमार