होम क्वांरटीन प्रवासियों का होगा प्रतिदिन स्वास्थ्य परीक्षण…

30


– प्रवासियों को देा श्रेणी में बांटा गया
– 15 जून तक होना है सर्वे कार्य

परीक्षण
       लॉकडाउन की अवधि में रेल परिचालन शुरु होने के साथ ही राज्यों से प्रवासियों का आना बढ़ चुका है। बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सभी  जिला पदाधिकारी और सिविल सर्जन को यह आदेश दिया है कि वे अपने क्षेत्र में होम क्वांरटीन में रहने वाले प्रवासियों के गृह भ्रमण कर निगरानी एवं स्वास्थ्य प्रशिक्षण करें। इस पर्यवेक्षण का कार्य पल्स पोलियो अभियान के सूक्ष्म कार्ययोजना के अनुसार पूर्व से कार्यरत पर्यवेक्षकों के द्वारा ही किया जाएगा। वहीं पर्यवेक्षकों के द्वारा प्राप्त सूची के नामित प्रवासियों की स्क्रीनिंग की जाएगी।  बाहर से आने वाले प्रवासियों को दो श्रेणी क और ख में बांटा गया है। श्रेणी क में सूरत, पूणे, दिल्ली, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुरुग्राम, नोएडा, कोलकाता एवं बेंगलुरु तथा श्रेणी ख में देश के अन्य राज्य व शहर शामिल हैं। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ एके झा ने बताया कि जिले में सर्वे का कार्य शुक्रवार से शुरु किया जाएगा। प्रशासन 31 मई तक प्रतिदिन प्रवासियों की संख्या देगी। जिसके आधार पर जिले में 469 सुपरवाईजर 17 ब्लॉक में गृह भ्रमण कर प्रवासियों के होम क्वांरटीन सर्वे कार्य को पूरा करेगें। इसके लिए सुपरवाईजर को प्रशिक्षण दे दिेया गया है।  इस 14 दिन के कार्य को 15 जून तक पूरा कर लेना है। पर्यवेक्षण करने वाले सुपरवाईजर प्रत्येक दिन शाम को चार बजे प्रखंडों को अपनी सूची उपलब्ध कराएगें।  इस कार्य में लगे पर्यवेक्षक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के अंतर्गत बीमा योजना से लाभांवित भी होगें।

14 दिन लगातार करेगें गृह भ्रमण
पोलियो पर्यवेक्षक अपने कार्य क्षेत्र में उपलब्ध कराए गये प्रवासी लोगों की सूची के अनुसार 14 दिनों तक प्रतिदिन उनके घर जाकर जांच करेगें। साथ ही प्रवासी लोगों के घर पर पर्यवेक्षक होम क्वांरटीन का पोस्टर भी चिपकाएगें। वहीं प्रवासियों को होम क्वांरटीन से संबंधित पम्पलेट भी उपलब्ध कराया जाएगा। पर्यवेक्षक लगातार स्क्रीनिंग के दौरान चिपकाए गये पोस्टर पर अपना हस्ताक्षर तिथि सहित दर्ज करेगें । पर्यवेक्षक द्वारा जांच के क्रम में प्रवासी लोगों में बुखार के साथ सर्दी खांसी अथवा सांस लेने में कठिनाई के लक्षण की पहचान कर संबंधित सूची स्वास्थ्य संस्थान को देगें। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ऐसे लोगों को प्रखंड स्तर पर संचालित हेल्थ क्वांरटीन पर लाकर कोविड 19 से संबंधित जांच करेगें। वहीं एमओआईसी संदिग्ध प्रवासियों की सूची को जिला स्तरीय आईडीएसपी कोषांग को प्रपत्र 5 में उपलब्ध कराएगी।
संध्याकालीन समीक्षात्मक बैठक
प्रखंड या शहरी स्वास्थ्य केंद्रों पर प्रतिदिन संध्याकालीन बैठक का आयोजन प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की अध्यक्षता में किया जाएगा। एवं दैनिक प्रतिवेदन की समीक्षा कर  आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। यह बैठक जिला स्तर पर जिलाधिकारी के द्वारा भी की जानी है।