नेपाल भारत की सीमा से 8 लोगो को किया गिरफ्तार, भेजा गया कवारंटाइन सेंटर…

64

वैश्विक महामारी कातिल कोरोना वायरस  को रोकने के लिए दुनिया के देश अपनी सीमा सील किये हुए हैं जबकि भारत में कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे के मद्देनजर लॉक डाउन है । वही पडोसी देश नेपाल में सीमा सील किये हुए हैं,वावजूद नेपाल  पुलिस अपने इलाके से चोरी चुपके चोर रास्ते से  लोगो को बॉर्डर में घुसपैठ करवांने में जुटा है ।
  नेपाल भारत की कोसी इलाके के  खुली अंतरराष्ट्रीय  सीमा से 8 लोगो को बॉर्डर पर तैनात एसएसबी 45 वी बटालियन ने पकड़ कर सीमावर्ती  इलाके के कवारंटाइन
सेंटर में डाल दिया हैं ।ये सभी  कवारंटाइन सेंटर में पहुंचे 8 लोग बिहार के खगड़िया जिले के रहने वाले बताया जा रहे है ,जो नेपाल  चीन सीमावर्ती इलाके के शहरे जिले के मंथली के  एक पवार प्रोजेक्ट में मजदूरी  का कार्य करते थे ।
मजदूरो ने  बतलाया है की मकान मालिक और स्थानिय लोगो द्वरा वहां से भगा दिया गया , फिर नेपाल पुलिस उसे घुसपैठिये की तरह  बॉर्डर पार करवा  मारपीट कर भेजवाया है ।
इधर ऐसे लोगो के पहुँचने से कवारटाईन सेंटर पर तैनात कर्मी भी परेशान होने की बाते कही ।
ये नजारा  भारत नेपाल बॉर्डर इलाके की है कोशी नदी के उस पार नेपाल है और इस पार भारतीय भूभाग का सुपौल जिले के नरपतपट्टी इलाका जंहा 45 वी बटालियन के एसएसबी जवान मुस्तैद है इनकी निगहबानी से यह बच कर निकल नहीं सके और 8 लोग एसएसबी के हत्थे चढ़ गए जिन्हे एसएसबी के अधिकारियो के निर्देश पर नरपतपट्टी मिडिल स्कुल में बनाये गए क्वाराटाइन सेंटर में रख दिया गया है हांलाकि नेपाल से आये लोगो का कहना है की वो खगड़िया जिले के सभी रहने वाले है जो विगत कई महीनो नेपाल के शहरे जिला के मंथली इलाके में पवार प्रोजेक्ट में लेबर का कार्य करते थे मगर नेपाल में स्थानीय लोगो द्वारा रूम से जबरन निकाल दिया गया और फिर उसे नेपाल पुलिस द्वारा ट्रक में लाद कर कोशी नदी के रास्ते बॉर्डर मारपीट कर पार करवा दिया