शहीद दीपक कुमार तिवारी का शव पंहुचा उनके पैतृक गांव।

83

हाजीपुर वैशाली: राजापाकर थाना क्षेत्र के दयालपुर तिवारी टोला वार्ड 1 मे शहीद सार्जेट दीपक का शव पंहुचते ही परिवार मे मचा कोहराम।

गौरतलब हो कि दयालपुर तिवारी टोला वार्ड 1 निवासी रामनरेश तिवारी के इकलौते पुत्र शहीद सार्जेट दीपक कुमार तिवारी भारतीय वायु सेना मे ए एफ एन डी रेस कोर्स मे कार्यरत थे। 45 वर्षीय शहीद तिवारी के एक पुत्र एवं एक पुत्री है।

ज्ञात हो कि 1 अक्टूबर को रेस कोर्स कार्यालय से शाम 7 बजे के बीच अपने आवास पालम लौट रहे थे कि रास्तों मे मोटरसाइकिल असंतुलित हो जाने के कारण दुर्घटना हो गई। जिसमे सार्जेंट दीपक कुमार तिवारी गंभीर रूप से जख्मी हो ग्ए। जिनका इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के क्रम मे रास्ते मे ही मौत हो गई।

वर्ष 1994 के अगस्त माह मे भारतीय वायु सेना मे शामिल हूए। भारतीय वायु सेना मे कार्यकुशलता के लिए वे जाने जाते थे। 3 अक्टूबर की संध्या 6:00 बजे शहीद तिवारी का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव राजापाकर थाना क्षेत्र के दयालपुर तिवारी टोला वार्ड 1 मे पंहुचा तो पूरे गांव मे शोक की लहर दौड़ गई। पूरा गांव अपने वीर सपूत के आखरी दर्शन को उमड़ परा।वही परिजनो मे कोहराम मचा हूआ था।

शहीद तिवारी को गार्ड आँफ आनर देने के लिए बीहटा एयर फोर्स कैप से सैन्य पदाधिकारियों का दल शहीद के घर पंहुचकर गार्ड आँफ आँनर दिया। शहीद के आवास पर स्थानीय मुखिया प्रतिनिधि यदुनी पासवान ने भी शहीद तिवारी को श्रद्धांजलि अर्पित किया। सैकड़ो नम आंखे अपने वीर सपूत को अश्रुपूरित विदाई दे रहे थे।

वही परिजनों द्बारा हाजीपुर मे पवित्र नारायणी नदी के कोनहारा घाट पर शहीद तिवारी का अंतिम संस्कार किया गया। पुत्र विभाष कुमार ने अपने शहीद पिता को मुखाग्नि दिया। वही इस घटना से पूरा परिवार मर्माहत है। परिजनों का रो रो कर बुरा हाल हो रहा है।

संवाददाता: राजेन्द्र कुमार सिंह