गांव मे बाढ का पानी जमे रहने से गिर रहे है कच्चे मकान

26

हाजीपुर वैशाली: महुँआ के बाया नदी के पानी काफी दिनो से जमे रहने के कारण अब कच्चे मकान सलका लगने से गिर रहे है। इससे ग्रामीणो इलाकों मे डर का माहौल बना हूआ है।

बुद्धवार को बाढ ग्रस्त इलाको के लोगो ने बताया कि उसके सामने अब भीषण संकट खड़ी है। कच्चे मकान और झोपड़ियां सलका के कारण गिर रहे है। इससे खतरा होने का डर समाया हूआ है।

महुँआ के परमांनदपुर लाल मे नदी के बांध टूट जाने से उक्त गांव के अलावा चकदारा, रामपुर, चकदारा रामनगर, मकसुदपुर ताज, बनारसीपुर, छितरौली आदि गांवों मे बाढ का पानी जमा रहने से लोगो को भारी परेशानी हो रही है।

वही बहोरी मे इसी नदी के बांध टुटने से दक्षिणी इलाका पूरी तरह बाढ ग्रस्त है। किसानों के बथान भी गिर जाने से पशुओं को इस बारिष मे भारी दिक्कत हो रही है।

पूर्व प्रमुख अनिल सिह, समाजसेवी सतेन्द्र कुमार, बंटी मिश्रा, अरूण सिह, रामनाथ यादव, अशोक जयसवाल, विनोद कुमार सुमन आदि ने बताया कि इस बार बाढ की भारी तबाही के बाबजूद किसी पीड़ित को सरकारी लाभ नही मिल सका।

उन्होंने बताया कि वाया नदी इस बार यहां के लोगो के लिए कहर बनकर टूट परा। प्रशासन बिल्कुल सोया हूआ है। उन्होंने बताया कि इस बार बाढ से काफी लोग बेघर भी हो गये है। किसान परिवार परेशानी मे है।

वैशाली रिपोर्टर: राजेन्द्र कुमार सिंह