स्नातक में नामांकन के लिए पहुंचे सैकड़ों विद्यार्थी, कॉलेज बंद होने से लौटे निराश

65


मुजफ्फरपुर में स्नातक में नामांकन के लिए पहुंचे सैकड़ों विद्यार्थी, कॉलेज बंद होने से लौटे निराश
बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में स्नातक में नामांकन के लिए पहली मेधा सूची के आधार पर 15 नवंबर तक तिथि निर्धारित की गई थी। लेकिन, दीपावली और छठ को लेकर विश्वविद्यालय की ओर से ही 13 से 23 नवंबर तक कॉलेजों को बंद रखने का निर्देश जारी किया गया। इसके बाद सभी कॉलेजों में छुट्टी का नोटिस लगा बंद कर दिया गया। लेकिन, इसकी सूचना विद्यार्थियों तक नहीं पहुंच सकी। दीपावली के अगले दिन नामांकन के लिए अंतिम तिथि मानकर सैकड़ों की संख्या में छात्र-छात्राएं विभिन्न कॉलेजों में पहुंचने लगे।

वहां सूचना देखकर वे निराश होकर लौट गए। एलएनटी कॉलेज पर पहुंचे शुभम और रोहित ने बताया कि सूचना दी गई थी कि पहली मेधा सूची के आधार पर 15 नवंबर तक नामांकन होगा।
बीच में दीपावली और उससे पहले चुनाव के कारण कॉलेज बंद था। रविवार को जब कॉलेज पहुंचे तो गेट बंद था। कहा कि विश्वविद्यालय की ओर से विद्यार्थियों तक इसकी सूचना दी जानी चाहिए थी। नीतीश्वर कॉलेज, एलएनटी कॉलेज, आरडीएस कॉलेज समेत मुख्यालय के कई कॉलेजों में रविवार होने के बावजूद छात्र नामांकन के लिए पहुंच गए थे। डीएसडब्ल्यू डॉ.अभय कुमार सिंह ने बताया कि त्योहार को देखते हुए कॉलेज में छुट्टी की घोषणा की गई है। जो छात्र छात्राएं अब तक नामांकन नहीं ले सके हैं।
कॉलेज खुलने के बाद 24, 25 और 26 नवंबर को उनको नामांकन के लिए मौका दिया जाएगा।

1.07 लाख सीटों के लिए स्नातक में होना है नामांकन विश्वविद्यालय में स्नातक में पहले से निर्धारित 1.07 लाख सीटों के लिए नामांकन की प्रक्रिया हो रही है। हालांकि पहली मेधा सूची में 89 हजार विद्यार्थियों को ही मौका दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि विश्वविद्यालय की ओर से सरकार को सीटों की संख्या में वृद्धि करने का प्रस्ताव दिया गया है। यदि सरकार की ओर से मंजूरी मिल जाती है तो सीटों की कुल संख्या 1.52 लाख हो जाएगी। दूसरी मेधा सूची में बढ़े हुए सीटों के आधार पर विद्यार्थियों को मौका दिया जा सकता है।


बता दें कि स्नातक में नामांकन के लिए लगभग डेढ़ लाख छात्र-छात्राओं ने आवेदन दिया था। इसमें से 12 हजार आवेदन गलती के कारण रद हो गए थे। कई कॉलेजों को बाद में मिला एफीलिएशन, नहीं हुआ एक भी नामांकन कई नए कॉलेजों को इस वर्ष से नामांकन के लिए मान्यता दी गई।

लेकिन, तबतक नामांकन के लिए आवेदन की प्रक्रिया लगभग समाप्त हो गई थी। ऐसे में इन कॉलेजों में एक भी नामांकन नहीं हो सका।
डीएसडब्ल्यू ने बताया कि इन कॉलेजों में दूसरी मेधा सूची में छात्र-छात्राओं को विकल्प दिया जाएगा।