Indian Army द्वारा मारुति जिप्सी को सबसे अधिक क्यों पसंद किया जाता है ?

406
Indian Army
Indian Army

नई दिल्ली। पूरी दुनिया ने Indian Army (भारतीय सेना) के साहस और वीरता को स्वीकार किया है। भारतीय सेना सबसे कठिन स्थानों पर दुश्मनों के दांत खटाती है। ऐसे में सेना के साथ और भी कई चीजें हैं, जिन पर हमारा ध्यान नहीं जाता है। इसी क्रम में मारुति सुजुकी की जिप्सी है, जो सालों तक भारतीय सेना की पहली पसंद बनी।

हालाँकि, अब इसे टाटा सफारी स्टॉर्म द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है। ऐसे में सवाल यह है कि क्या जिप्सी विदाई लेने वाली है और क्या टाटा सफारी स्टॉर्म अपनी जगह ले पाएगी? तो चलिए जानते हैं इन सभी सवालों का जवाब।

मारुति सुजुकी जिप्सी के स्थान पर टाटा सफारी स्टॉर्म

भारतीय सेना में मारुति सुजुकी जिप्सी के स्थान पर टाटा सफारी स्टॉर्म के उपयोग का सबसे बड़ा कारण नई सुरक्षा और उत्सर्जन मानदंड हैं, जो जिप्सी को पूरा करने में असमर्थ था। दरअसल, पिछले 5 साल से टाटा सफारी स्टॉर्म और महिंद्रा स्कॉर्पियो के बीच एक कड़ी प्रतिस्पर्धा चल रही थी कि भारतीय सेना में किस वाहन का इस्तेमाल किया जाएगा। हालांकि, टाटा मोटर्स को सबसे कम बोली दी गई।

Indian Army में मारुति सुजुकी जिप्सी के उपयोग के बारे में बताया गया था कि इसका छोटा आयाम इसे दूसरों से अलग बनाता है।

मारुति सुजुकी की जिप्सी, टाटा सफारी स्टॉर्म की तुलना में आयामों में छोटी है, जिससे पतले रास्तों पर चलना आसान हो जाता है।

जिप्सी भारतीय सेना के लिए कश्मीर और उत्तर पूर्व जैसे क्षेत्रों में एक बेहतर वाहन है।

इसके अलावा, सैन्य विशिष्टताओं के साथ टाटा सफारी स्टॉर्म केवल हार्ड-टॉप कॉन्फ़िगरेशन में उपलब्ध है। वहीं, Maruti Suzuki Gypsy सॉफ्ट-टॉप मॉडल के साथ हार्ड-टॉप कॉन्फ़िगरेशन में भी उपलब्ध है।

सफारी स्टॉर्म की 3,192 इकाइयों की मांग की थी भारतीय सेना

भारतीय सेना ने सफारी स्टॉर्म की 3,192 इकाइयों की मांग की थी, जिनमें से 90 प्रतिशत को अब तक टाटा मोटर्स द्वारा वितरित किया गया है। रिपोर्टों के मुताबिक, Indian Army ने रक्षा मंत्रालय से मांग की थी कि उन्हें नए सुरक्षा नियमों और उत्सर्जन मानदंडों से छूट दी जाए। इसके बाद, मारुति सुजुकी की जिप्सी की 3,051 इकाइयों के लिए आदेश दिए गए।